It is recommended that you update your browser to the latest browser to view this page.

Please update to continue or install another browser.

Update Google Chrome

उदयपुर हत्याकांड के विरोध में स्वेच्छा से बंद रहे जयपुर के बाजार
By Lokjeewan Daily - 30-06-2022

उदयपुर में कन्हैयालाल टेलर की हत्या के विरोध में गुरुवार को आवश्यक सेवाओं को छोड़कर जयपुर शहर के सभी बाजार और दुकानों को बंद रखा गया। सुबह से ही चारदीवारी सहित बाहरी बाजार बंद रहे। विभिन्न हिन्दू संगठनों के बंद के आह्वान को जयपुर व्यापार महासंघ ने भी स्वैच्छिक समर्थन दिया। इसका असर परकोटे सहित बाहरी बाजारों में देखने को मिला। परकोटे के बाजार में बाजार बंद का जहां व्यापाक असर देखने को मिला, वहीं बाहरी बाजारों में भी बंद का मिला-जुला असर नजर आया।

भाजपा शहर पदाधिकारियों के साथ कार्यकर्ताओं ने भी बाजार में घूमकर दुकानें बंद करवाई, वहीं चांदपोल बाजार में भाजपा शहर अध्यक्ष राघव शर्मा ने पैदल मार्च निकालकर घटना के विरोध में नारेबाजी की। जयपुर व्यापार महासंघ अध्यक्ष सुभाष गोयल ने बताया कि उदयपुर की घटना के विरोध में जयपुर के बाजार पूरी तरह बंद है, व्यापारियों ने बंद को स्वैच्छिक समर्थन दिया है। परकोटे के चांदपोल बाजार, जौहरी बाजार, त्रिपोलिया बाजार, किशनपेाल बाजार, चौड़ा रास्ता सहित अन्य बाजारों में भी बंद का असर नजर आया। जयपुर व्यापार महासंघ ने उदयपुर घटना की निंदा करते हुए एक दिन पहले ही जयपुर बंद को समर्थन देने की घोषणा की थी।

जयपुर व्यापार महासंघ के अध्यक्ष सुभाष गोयल, कार्यकारी अध्यक्ष हरीश केडिया और महामंत्री सुरेन्द्र बज ने शहर के व्यापारियों के साथ अन्य व्यापारिक संगठनों, व्यापार मंडलों से चर्चा कर बंद को स्वैच्छिक समर्थन का एलान किया है। अध्यक्ष सुभाष गोयल ने बताया कि उदयपुर की घटना ऐसी है, जिसकी जितनी निंदा की जाए कम है। ऐसी घटनाओं की पुनरावर्ती नहीं होनी चाहिए। सरकार दोषियों को तुरंत सजा दे।

एडिशनल डीसीपी (नॉर्थ) धर्मेंद्र सागर ने बताया कि जयपुर बंद को लेकर व्यापारियों से बातचीत की है। व्यापारियों ने सहमती से जयपुर बंद का आहृान किया गया है। गुरुवार को जयपुर शहर के बाजार सहित सभी दुकानें बंद रखी गई। एहतियात के तौर पर करीब 1 हजार जवानों का पुलिस जाब्ता तैनात किया गया है। बाजार बंद को लेकर सिर्फ जयपुर शहर के सोडाला में कुछ व्यापारियों में झड़प हुई, लेकिन उसके बाद सहमती से दुकानें बंद की गई।

अन्य सम्बंधित खबरे