It is recommended that you update your browser to the latest browser to view this page.

Please update to continue or install another browser.

Update Google Chrome

पुलिस ने चित्रकूट में चल रहे फर्जी ‘सब-रजिस्ट्रार’ कार्यालय का किया पर्दाफाश
By Lokjeewan Daily - 09-08-2022

शहर के चित्रकूट इलाके में फर्जी सब-रजिस्ट्रार कार्यालय चलाने वाले गिरोह का पुलिस ने पर्दाफाश किया है। गिरोह पांच साल से ज्यादा समय से खाली पड़े प्लाॅटाें के फर्जी दस्तावेज तैयार करवाकर उन पर कब्जा करके बेचने का काम कर रहा था। गिरफ्तार आरोपी भानूप्रताप नरूका सोडाला के रांकड़ी शिवपुरी और पंकज सोनी शांति नगर हसनपुरा जयपुर के रहने वाले हैं। मामले में प्लॉट पर कब्जा करने का प्रयास करने वाले जितेन्द्र कश्यप को मानसराेवर थाना पुलिस पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है।

पुलिस ने पूछताछ के बाद भानूप्रताप के चित्रकूट स्थित कार्यालय पर छापेमारी की और गिराेह के पास से जिला कलेक्ट्रेट, जेडीए सहित कई विभाग के अधिकारियाें की 400 सील बरामद की गई। तलाशी में अलग-अलग साेसायटियाें के 100 से ज्यादा आवंटन-पत्र, साइट प्लान, रसीदें और स्टांप पेपर बरामद किए।

थानाधिकारी दिलीप सोनी ने बताया कि इस संबंध में पीड़ित सुरेश श्रृंगी और देवांग गार्गिया ने मानसरोवर थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाई थी कि अमेरिका में रहने वाले एनआरआई मुकुट जोशी ने मानसरोवर में प्लॉट लिया था। वर्ष 2014 में उनकी मौत के बाद उनकी पत्नी ने प्लॉट का केयर-टेकर परिवादी काे नियुक्त कर दिया। वर्ष 2021 में जितेन्द्र कश्यप आया और फर्जी दस्तावेज दिखाते हुए प्लॉट पर कब्जा करने लगा। आरोपी ने प्लॉट के संबंध में कई दस्तावेज दिखाए और बताया कि मुकुट जोशी मरने से पहले प्लॉट उसे बेच गए थे।

मामले की जांच सब इंस्पेक्टर संदीप कुमार ने की तो मामला फर्जी पाया । उसके बाद पुलिस ने चार दिन पहले जितेन्द्र कश्यप को गिरफ्तार किया था। रिमांड के दौरान जितेन्द्र से पूछताछ में सामने आया कि उसने चित्रकूट में रहने वाले भानू प्रताप से मानसरोवर इलाके के 5 प्लॉटों के दस्तावेज बनवाए हैं।

अन्य सम्बंधित खबरे