It is recommended that you update your browser to the latest browser to view this page.

Please update to continue or install another browser.

Update Google Chrome

सरकारी विद्यालयों में बच्चों से परिजनों के टीकाकरण का लिया जाएगा प्रमाण पत्र
By Lokjeewan Daily - 07-12-2021

दौसा। प्रदेश की राजधानी व दौसा से सटे जयपुर में कोरोना के नए वैरिएंट 'ओमिक्रॉनÓ की दस्तक से दौसा में भी प्रशासन अलर्ट हो गया है। चिकित्सा विभाग ने एंटी कोरोना एक्टीविटीज पर विशेष ध्यान देना शुरू कर दिया है। वहीं जिला कलक्टर पीयुष समारिया ने राजकीय विद्यालयों के समस्त अध्ययनरत विद्यार्थियों के 18 वर्ष आयु से अधिक के परिवारजनों से कोविड वैक्सीन की प्रथम व दूसरी डोज लगने का प्रमाण पत्र मंगवाने के सोमवार को आदेश जारी किए हैं। इसकी पालना में मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी ओमप्रकाश शर्मा ने सभी सीबीईओ व पीइईओ को तीन दिन में सूचना समेकित कर भेजने के आदेश दे दिए। कलक्टर की इस पहल से एक और जहां कोविड वैक्सीनेशन को बढ़ावा मिलेगा, वहीं शिक्षकों पर नई जिम्मेदारी आ गई है।
जानकारी के अनुसार दौसा जिले के समस्त राजकीय विद्यालयों में अध्ययनरत बच्चों से उनके परिजनों के वैक्सीनेशन के बारे में शिक्षक प्रमाण पत्र जुटाएंगे। इसके बाद पीईईओ स्तर पर सूचना समेकित कर ब्लॉक कार्यालय को भेजी जाएगी। ब्लॉक से जिला स्तर पर सूचना आने के बाद यह निर्धारित हो पाएगा कि वैक्सीनेशन किस स्तर पर हुआ है। बच्चों के अभिभावकों को प्रमाण पत्र में बताना होगा कि पहली डोज लगी है या दोनों लग चुकी। साथ ही डोज लगवाने के लिए प्रेरित भी किया जाएगा। सीडीईओ ने बताया कि जिला कलक्टर के आदेश के बाद सभी ब्लॉक व ग्राम पंचायत स्तर के अधिकारियों को तीन दिन में सूचना देने के निर्देश दिए गए हैं।
गौरतलब है कि दौसा जिला अभी प्रदेश के दो दर्जन जिलों से वैक्सीनेशन में पीछे चल रहा है। ऐसे में वैक्सीनेशन की गति बढ़ाने के लिए जिला कलक्टर ने अभिभावकों से प्रमाण पत्र मंगवाने के अलावा अन्य विभागों को भी जागरुकता के लिए कार्य करने के निर्देश दिए हैं।
सीएमएचओ ने बताया कि दोनों डोज लगवाने वालों पर वायरस का असर अपेक्षाकृत कम देखा गया है।
कोविड की तीसरी लहर की आशंका के मद्देनजर जिला अस्पताल में भी कोविड के लिए 40 बेड का अलग वार्ड बना दिया गया है। साथ ही मेडिकल टीम का भी गठन कर दिया गया है। ऑक्सीजन के तीन प्लांट तैयार हैं। करीब 160 ऑक्सीजन सिलेण्डर व 88 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर उपलब्ध हैं। बच्चों के लिए भी अलग व्यवस्था की गई है। गौरतलब है कि जिले में अभी तीन एक्टिव कोविड मरीज हैं।

अन्य सम्बंधित खबरे